आज का पंचांग (हिंदू कैलेंडर), December 09, 2019


Click here for Year 2019 Rashiphal (Rashifal) in English, हिंदी, తెలుగు
Click here for December, 2019 Monthly Rashifal in English, हिंदी, తెలుగు
Check Today's Panchang in English, हिंदी, मराठी, ગુજરાતી and తెలుగు, ಕನ್ನಡ New.
Newborn Astrology. Rashi, Nakshatra, Naming letters and birth doshas. Available in English, हिंदी and తెలుగు.


किसी भी तिथि और स्थान के लिए ऑनलाइन पंचांग

यूनिवर्सल वैदिक (हिंदू) कैलेंडर हिंदीमे

आज के लिए पंचांग हिंदी मे

समय के सभी उदाहरणों में पांच विशेषताएं हैं जैसे कि। तिथी, वारा, नक्षत्र, योग और कराना। इन पांच विशेषताओं को वर्ष के सभी दिनों के लिए एक पंचांग में विस्तृत किया जाता है जिसे पंचंगा कहा जाता है। ये विशेषताएं सूर्य और चंद्रमा की स्थिति से ली गई हैं। पंचंगा का उपयोग संकल्प के लिए समय की पांच बुनियादी विशेषताओं को जानने के लिए किया जाता है, यज्ञ, यागस, वृत्स के लिए तारीखों का पता लगाने, श्रद्धाओं की खोज तिथियां, मुहूर्त का पता लगाने और आम जनता के उपयोग के लिए शुभ / अशुभ समय की तलाश करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

यह पंचंगा दर्शन आपको चंद्रमा की वर्तमान स्थिति और चैत्र Paksheeya के साथ पंचांग यानी, आज की तीथी (चंद्र दिवस), वारा (दिन), नक्षत्र (चंद्रमा का नक्षत्र), योग (सूर्य, चंद्रमा संयोजन), कराना (थिटी का आधा) देता है ( लाहिरी) ज्ञानम। यह आपको आज के तारबलम, चंद्र बलम, अष्टमा चन्द्र, घट वारा, राहुकला, गुलिका, यामागांडा समय, वरज्याम, दुरमुर्थम, तिथई की गुणवत्ता, वारा, नक्षत्र, योग, कराना, सूर्योदय, चंद्रमा समय और राशी, नक्षत्र परिवर्तन समय, चौगाटी / गौरी पंचांग, ​​होरा समय, मुहूर्ता समय हिंदी भाषा में ताराबल के आधार पर दिन गाइड और भविष्यवाणियों के साथ।

Date
Country Select Birth Country
Place Just enter complete City name in English and select from list
Longitude/ Latitude

पंचांग क्या है?
पंचांग दो शब्दों का एक संयोजन है पंचा + एंगा पंच का अर्थ पांच और अंग का अर्थ अंग है। हिंदू ज्योतिष के अनुसार समय पांच अंगों में विभाजित है। तिथी, वारा, नक्षत्र, योग और कराना। त्रिठी सूर्य और चंद्रमा के बीच की दूरी है सूर्य और चंद्रमा के बीच लगभग 12-डिग्री का अंतर होगा दोनों अमावस्या पर एक ही डिग्री के लिए आएंगे और दोनों पूर्णिमा पर सटीक विरोध में आएंगे। वारा का अर्थ सप्ताह का दिन है। वैदिक सप्ताह का दिन सूर्योदय से शुरू होता है और अगले दिन सूर्योदय के साथ समाप्त होता है। नक्षत्र नक्षत्र का अर्थ है। राशि चक्र को 27 भागों में बांटा गया, जिसे नक्षत्र कहा जाता है। चांद लगभग एक दिन में नक्षत्र में जाता है। प्रत्येक नक्षत्र में अलग-अलग संकेत हैं योग भी सूर्य और चंद्रमा के बीच की दूरी है 27 योगा हैं कराना एक तिथि का आधा हिस्सा है। 11 करण हैं पंचांग भी दैनिक ग्रहों की गति के बारे में बताता है। पंंचांग की मदद से विवाह, गृह वार्मिंग इत्यादि शुभ घटनाओं के लिए एक अच्छा समय चुन सकता है। भारतीय संस्कृति में इसकी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है।
कैसे पंचांग हमें मदद करता है?
जैसा कि मैंने ऊपर कहा, मुहूर्त का चयन करना और एक दिन का अच्छा और बुरा होना आवश्यक है। पंचांग में दिए गए सभी विवरण राशी और नक्षत्रों पर चंद्रमा के पारगमन पर आधारित हैं। यह यह भी बताता है कि ऐसा करने के लिए बेहतर और समस्या मुक्त जीवन हो सकता है।


Thanks for visiting

Astrologer Santhoshklumar sharmaOnlinejyotish.com giving Vedic Astrology services from 2004. Your help and support needed to provide more free Vedic Astrology services through this website. Please share https://www.onlinejyotish.com on your Facebook, WhatsApp, Twitter, GooglePlus and other social media networks. This will help us as well as needy people who are interested in Free Astrology and Horoscope services. Spread your love towards onlinejyotish.com and Vedic Astrology. Namaste!!!

Sarvesthu Sukhinah Santhu, Sarve Santhu Niramayah
Sarve Bhadrani Pashyanthu, Ma kashchith Duhkhabhag Bhaveth||
Om Shantih, Shantih, Shantih||


Vedic Horoscope

Vedic Horoscope

Free Vedic Janmakundali (Horoscope) with predictions in English. You can print/ email your birth chart.

Read More
  

Vedic Horoscope Hindi

Vedic Horoscope

Free Vedic Janmakundali (Horoscope) with predictions in Hindi. You can print/ email your birth chart.

Read More